यूसर्क द्वारा US Embassy के सहयोग से ‘साइबर सिक्योरिटी’ पर मंथन

उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र (यूसर्क) द्वारा ‘अमेरिकन एम्बेसी’ से आये विशेषज्ञों के साथ मिलकर प्रदेशभर के विशेषज्ञों ने ‘साइबर सिक्योरिटी ’ पर मंथन किया।
यू0एस0 एम्बेसी (US Embassy) की विशेषज्ञ मारिके क्याउ (Merike Kaeo) मैनेजिंग सिक्यूरिटी रिस्क इन टुडे काम्पलेक्स लैण्डस्कैप (Managing Security Risks in Today Complex Landscape) विषय पर विस्तार पूर्वक चर्चा की।
यूसर्क के निदेशक प्रो0 दुर्गेश पंत ने इस कार्यक्रम के आयोजन की प्रासंगिकता पर प्रकाश डालते हुए बताया कि साइबर सिक्यूरिटी आज पूरे विश्व की आवयकता बन गयी है।
जी0बी0पन्त विश्वविद्यालय के प्रो0 सामान्त रे ने शिक्षण संस्थानों में साइबर सिक्योरिटी की पोलिसी पर कार्य किये जाने पर जोर दिया। उत्तराख्ण्ड मुक्त विश्वविद्यालय के प्रो0 जीतेन्द्र सिंह पाण्डेय ने बताया कि इण्टरनेट का प्रारम्भिक प्रारुप सूचना के आदान प्रदान तक सीमित था, जिसे शोधकर्ता प्रयोग करते थे, परन्तु वर्तमान में इंटरनेट विश्वव्यापी हो गया है। अतः इसके उपयोग पर सावधानी आवश्यक हो गयी है। एन0आई0सी0 से आये श्री विनोद तनेजा, श्री संजय गुप्ता व अरुण शर्मा ने एन0आई0सी0 द्वारा किये जाने वाले कार्यों की चर्चा करते हुए बताया कि किस प्रकार किसी भी कार्यक्रम को प्रारम्भ करने से पहले साइबर सिक्योरिटी का ध्यान रखा जा सकता है। उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र (यूसर्क) के वैज्ञानिक डा0 ओम प्रकाश नौटियाल ने साइबर सिक्योरिटी की जागरुकता को फैलाने की आवश्यकता पर चर्चा की। उक्त विचार मंथन में यूसर्क द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रम मेंटरशिप, इै – कन्टेंट निर्माण व डिजीटल वॉलेन्टियर कार्यक्रमों पर चर्चा की गई। जिसे सभी विशेषज्ञों ने सम्पूर्ण राज्य में प्रसार की आवश्यकता पर जोर दिया। विचार मिंन कार्यक्रम में (US Embassy) की कैथरीन फिसर, श्री रोबिन बसंल सहित विभिन्न संस्थानों के विशेषज्ञ तथा यूसर्क के इंजी0 उमेश चन्द्र, ओम जोशी तथा राजदीप जंग सहित 30 विशेषज्ञ उपस्थित थे।

Share to

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *