असकोट से आराकोट तक विज्ञान कारिडोर की स्थापना

दिनांक 08 दिसम्बर 2018 को उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र-यूसर्क द्वारा ‘असकोट से आराकोट तक विज्ञान कारिडोर स्थापना कार्यक्रम के अन्तर्गत राजकीय बालिका इंटर कालेज पुरोला में पर्यावरणीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

इन कार्यक्रमों के अन्तर्गत मैती आंदोलन के जनक श्री कल्याण सिंह रावत द्वारा बताया गया कि यूसर्क निदेशक प्रो0 दुर्गेश पंत के निर्देशन में प्रदेश के दूरस्थ पर्वतीय इलाको में स्थित विद्यालयों में विज्ञान शिक्षा से सम्बन्धित जागरुकता कार्यक्रम चलाकर ज्वलंत पर्यावरणीय समस्याओं के निराकरण हेतु प्रत्येक जनपद के 05 विद्यालयों में स्मार्ट ईको कलब का गठन किया जा रहा है। उन्होंने पर्यावरण संरक्षण सम्बधी रोचक जानकारियां छात्र-छात्राओं को दीं. विज्ञानं तथा पर्यावरण पर कार्यक्रम और ब्याख्यान आयोजित किये गए।राजकीय बालिका इण्टर कालेज पुरोला के प्रार्थना मैदान में एक तुन का पेड़ इतना बड़ा है कि इसकी घनी छाया में विद्यालय की पूरी छात्राएं आ जाती हैं। इंटरबल में इस पेड़ के जमीन में गिरे बीजों को छोटी कक्षाओं की छात्राएं पक्षियों की तरह चुगती रहती हैं। यहाँ करीब चार सौ छात्राएं पढ़ती हैं। जैव बिबिधता और उत्तराखंड पर क्विज कार्यक्रम आयोजित किया गया। बच्चों को पुरष्कार भी यू-सर्क की ओर से बितरित किये गए।

यूसर्क वैज्ञानिक डा0 राजेन्द्र सिंह राणा द्वारा प्लास्टिक बोतल को दुबारा प्रयोग करने से होने वाली गंभीर बिमारियों के बारे में बताया. साथ ही जल गुणवत्ता व जल प्रदूषण से संबन्धित वैज्ञानिक जानकारियों भी छात्र-छात्रों को दीं। भारत ज्ञान विज्ञान समिति के श्री अग्रिम सुन्दरियाल द्वारा दैनिक जीवन में विज्ञान के विभिन्न अनुप्रयोगों को सरल व वैज्ञानिक तरीके से छात्रों के सम्मुख प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम में भटवाड़ी कालेज में लगभग 350 छात्राओं द्वारा प्रतिभाग किया गया। पुरोला कालेज में प्रधानाचार्या सुश्री वंदना जी, ऋतंभरा सेमवाल, गीता असवाल, संगीता, मालती राना, नीलम बिष्ट, सरिता राव,सीमा देशवाल, वैशाली रावत, वंदना गौड़, रचना टम्टा, प्रेरणा पुंडीर, कांता, सोनम चौहान आदि स्टाफ कार्यक्रम में उपस्थित थे। इस कार्यक्रम को छात्राओं और अध्यापिकाओं द्वारा बहुत सराहा गया

Share to

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *