अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस

0 Comments

आज उत्तराखण्ड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र (यूसर्क) द्वारा वसंत विहार स्थित सभागार में ‘‘अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस’’ के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन यूसर्क के निदेशक प्रो0 दुर्गेश पंत के निर्देशन में विभिन्न ख्याति प्राप्त सामाजिक, शैक्षणिक, वैज्ञानिक महिलाओं की गरिमामयी उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। प्रो0 पंत ने यूसर्क द्वारा प्रदेश की महिलाओं को निरन्तर आगे ले जाने हेतु यूसर्क द्वारा किये जा रहे महत्वपूर्ण कार्यों पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय की पूर्व कुलपति डा0 सुधा रानी पाण्डेय ने अपने संबोधन में महिलाओं के उत्थान, उनकी समाज के प्रत्येक क्षेत्र में भागीदारी, शिक्षित बनाने पर बल दिया एवं राष्ट्र निर्माण में उनकी बढ़ती हुई भूमिका को एक संकेत बताया। डा0 पाण्डे ने भारत के विभिन्न क्षेत्रों में अच्छा कार्य कर रही महिलाओं के जीवन पर विस्तृत रूप से प्रकाश डालते हुए कहा कि आज की महिला हमारे राष्ट्र के निर्माण में महती भूमिका निभा रही है। रक्षा क्षेत्र, चिकित्सा क्षेत्र, पर्यटन क्षेत्र, कृषि क्षेत्र, पर्यावरण आदि के क्षेत्र में महिलाओं द्वारा नित नई ऊचाईयों को अर्जित किया जा रहा है।

कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि वाइज समूह (वोमेन इनीशियटिव फाॅर सैल्फ इम्पलाईमेंट) की प्रमुख श्रीमती नर्मदा भट्ट जी द्वारा ग्रामीण महिलाओं के उत्थान में किये जा रहे उनके समूह के कार्यक्रमों पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला एवं बताया कि किस प्रकार उनका समूह महिलाओं की सामाजिक भागीदारी आर्थिकी बढ़ाने पर कार्य कर रहा है। कार्यक्रम में बोलते हुये इंडो गंगा होलीडेज की प्रबन्ध निदेशक श्रीमती किरन भट्ट टोडरिया द्वारा बिना किसी प्रकार की विशेष छूट के महिलाओं को आगे बढ़ने देना चाहिये जिससे उनमें आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने की प्रवृत्ति का विकास हो सके।

कार्यक्रम में बोलते हुये वरिष्ठ शिक्षाविद डा0 मधु थपलियाल द्वारा महिलाओं को प्रेरित करने व समाज के निर्माण में उनके योगदान को आवश्यक बताया एवं महिला को शिक्षित करने पर जोर दिया।
कार्यक्रम की भूमिका को डा0 मंजू सुन्दरियाल द्वारा प्रस्तुत किया गया। डा0 सुन्दरियाल ने पूरे कार्यक्रम का समन्वयन करते हुये प्राचीन समय से आज तक महिला के द्वारा समाज को प्रदान किये गये योगदान व महत्व को प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में माटी संस्था, डी0ए0वी0 महाविद्यालय, देव संस्कृति विश्वविद्यालय, एस0जी0आर0 विश्वविद्यालय की छात्राओं द्वारा अपने-अपने विचार रखे गये।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *